नमस्ते नृसिंहाय लिरिक्स आरती Namaste Narasimhaya Lyrics Aarti


Namaste Narasimhaya Lyrics Aarti


Namaste Narasimhaya Lyrics Aarti in Hindi

Namaste Narasimhaya Lyrics Aarti
Namaste Narasimhaya Lyrics Aarti
 

 नमस्ते नृसिंहाय लिरिक्स आरती

प्रह्लादह्लाद दायिने।
हिरण्यकशिपोर्वक्षः
शिलाटंक नखालये॥1॥

इतो नृसिंहः परतो नृसिंहो
यतो यतो यामि ततो नृसिंहः।
बहिर्नृसिंहो हृदये नृसिंहो
नृसिंहमादि शरणं प्रपद्ये॥2॥

Jaya Jaya Gorachander Lyrics Aarti

तव कर-कमल-वरे नखम्‌ अद्‌भुत-श्रृंङ्गम्‌
दलित-हिरण्यकशिपु-तनु-भृंङ्गम्‌
केशव धृत-नरहरिरूप जय जगदीश हरे॥3॥


Namaste Narasimhaya Lyrics Aarti in English

namaste narasimhaya
prahladahlada-dayine
hiranyakasipor vakshahsila-
tanka-nakhalaye ||

Samsar Davanal Lyrics Aarti

ito nrisimhah parato nrisimho
yato yato yami tato nrisimhah
bahir nrisimho hridaye nrisimho
nrisimham adim saranam prapadye ||

tava kara-kamala-vare nakham adbhuta-sringam
dalita-hiranyakasipu-tanu-bhringam
kesava dhrita-narahari-rupa jaya jagadisa hare ||

 


 
(1) मैं नृसिंह भगवान्‌ को प्रणाम करता हूँ जो प्रह्लाद महाराज को आनन्द प्रदान करने वाले हैं तथा जिनके नख दैत्यराज हिरण्यकशिपु के पाषाण सदृश वक्षस्थल के ऊपर छेनी के समान हैं।
(2) नृसिंह भगवान्‌ यहाँ है और वहाँ भी हैं। मैं जहाँ कहीं भी जाता हॅूँ वहाँ नृसिंह भगवान्‌ हैं। वे हृदय में हैं और बाहर भी हैं। मैं नृसिंह भगवान्‌ की शरण लेता हूँ जो समस्त पदार्थों के स्रोत तथा परम आश्रय हैं।
(3) हे केशव! हे जगत्पते! हे हरि! आपने नरसिंह का रूप धारण किया है आपकी जय हो। जिस प्रकार कोई अपने नाखूनों से भ्रमर को आसानी से कुचल सकता है उसी प्रकार भ्रमर सदृश दैत्य हिरण्यकशिपु का शरीर आपके सुन्दर कर-कमलों के नुकीले नाखूनों से चीर डाला गया है।
 
(1)I bow to Narasimha Bhagavan, who is the one who gives joy to Prahlad Maharaj and whose nails are like chisels above the stone-like chest of demon Hiranyakashipu.
 
(2) Narasimha Bhagavan is here and there also.  Wherever I go, there is God like Narasimha.  They are in the heart and also outside.  I take refuge in the God of Narsingh, who is the source of all things and the ultimate shelter.
 
 
PicsArt 03 19 10.31.08
 
 
(3) O Keshav!  Hey awake!  O Hari!  You have taken the form of Narasimha, hail you.  Just as one can easily crush Bhrumar with his fingernails, similarly the body of Bhramar-like demon Hiranyakashipu has been ripped from the pointed nails of your beautiful curls.

Bhagwat Geeta

हम उम्मीद करते हैं की आपको यह भजन ‘नमस्ते नृसिंहाय लिरिक्स आरती Namaste Narasimhaya Lyrics Aarti‘ पसंद आया होगा। इस प्रकार के इस्कॉन भजन आरती के भजन पढ़ने और सुनने के लिए पधारे। इस भजन के बारे में आपके क्या विचार हैं हमें कमेंट करके जरूर बताये।

आध्यात्मिक प्रसंग, लिरिक्स भजन, लिरिक्स आरतिया, व्रत और त्योहारों की कथाएँ, भगवान की स्तुति, लिरिक्स स्त्रोतम, पौराणिक कथाएँ, लोक कथाएँ आदि पढ़ने और सुनने के लिए HindiKathaBhajan.com पर जरूर पधारे। धन्यवाद

Leave a Comment