पिछम धरां सूं म्हारा पीर जी पधारिया Baba Ramdev Ji Ki Lyrics Aarti in Hindi Top 1

Spread the love

पिछम धरां सूं म्हारा पीर जी पधारिया

Baba Ramdev Ji Ki Lyrics Aarti

रामदेव जी की आरती लिरिक्स


Baba Ramdev Ji Ki Lyrics Aarti in Hindi

पिछम धरां सूं म्हारा पीर जी पधारिया
घर अजमल अवतार लियो |

लाछां सुगणा करे थारी आरती।
हरजी भाटी चंवर ढोले।

पिछम धरां सूं म्हारा पीर जी पधारिया।

गंगा जमुना बहे सरस्वती।
रामदेव बाबो स्नान करे।

लाछां सुगणा करे थारी आरती।
हरजी भाटी चंवर ढोले।

पिछम धरां सूं म्हारा पीर जी पधारिया।

घिरत मिठाई बाबा चढे थारे चूरमो
धूपारी महकार पङे

लाछां सुगणा करे थारी आरती।
हरजी भाटी चंवर ढोले।

पिछम धरां सूं म्हारा पीर जी पधारिया।

ढोल नगाङा बाबा नोबत बाजे
झालर री झणकार पङे

लाछां सुगणा करे थारी आरती।
हरजी भाटी चंवर ढोले।

पिछम धरां सूं म्हारा पीर जी पधारिया।

दूर-दूर सूं आवे थारे जातरो
दरगा आगे बाबा नीवण करे।

लाछां सुगणा करे थारी आरती।
हरजी भाटी चंवर ढोले।

पिछम धरां सूं म्हारा पीर जी पधारिया।

हरी सरणे भाटी हरजी बोले।
नवों रे खण्डों मे निसान घुरे।

लाछां सुगणा करे थारी आरती।
हरजी भाटी चंवर ढोले।

पिछम धरां सूं म्हारा पीर जी पधारिया।

जय अजमल लाला प्रभु आरती

मारवाड़ी भजन आरती

Baba Ramdev Ji Ki Lyrics Aarti

ॐ जय जगदीश हरे लिरिक्स आरती


Spread the love

Leave a Reply